बिहार में बड़ा हादसा: लोगों को ट्रक ने रौंदा, बच्‍चों सहित 8 की मौत, पीएम ने जताया दुख..

बिहार के वैशाली जिले में रविवार की रात एक भीषण सड़क हादसा हो गया। देसरी थाना क्षेत्र के हाजीपुर-महनार मुख्य मार्ग पर पूजा में जुटे लोगों की भीड़ में एक तेज रफ्तार ट्रक घुस गया। इस हादसे में छह बच्‍चों सहित आठ लोगों की मौत हो गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार सहित तमाम बड़े नेताओं ने इस घटना पर दुख जताया है। 

रात के नौ बजे हुआ यह हादसा 

देसरी थाना क्षेत्र के नयागंज अठ्ठाइस टोला के निकट रविवार की रात करीब नौ बजे भीषण सड़क हादसे में छह बच्चों समेत आठ लोगों की मौत हो गई। घनी आबादी वाले क्षेत्र में तेज रफ्तार ट्रक ने डेढ़ दर्जन लोगों को रौंद दिया। फिर पास के पीपल के पेड़ में जा भिड़ा।

ड्राइवर को निकालने के लिए मंगाया गैस कटर 

एक किशोर सतीश कुमार (17) का शव ट्रक के आगे बंपर में फंस गया, जिसे रात 11 बजे निकाला जा सका। ड्राइवर भी केबिन में फंसा है और बुरी तरह घायल है। देर रात शासन ने उसे निकालने को गैस कटर मंगवाया है। पूछने पर वह कोई जवाब नहीं दे रहा है, इस कारण उसकी भी मौत की आशंका जताई जा रही है।  

राष्‍ट्रपति ने भी जताया शोक

वहीं, इस घटना पर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने शोक जताया है। साथ ही प्रधानमंत्री ने पीड़िता के परिजनों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने सड़क दुर्घटना में अपनों को खोने वाले परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की। बता दें कि इस दुर्घटना में बच्चों सहित कई लोगों की मौत हो गई है।

पीएमओ से ढाई लाख मुआवजे की घोषणा 

पीएमओ ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के वैशाली में हुए हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों के लिए 2-2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और पीएमएनआरएफ (प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष) से ​​घायलों के लिए 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि स्वीकृत की है।

ट्रक सड़क से उतरकर भीड़ में घुसता चला गया

मिली जानकारी के अनुसार सड़क किनारे मनोज राय के यहां भुइयां बाबा के पूजन के लिए श्रद्धालु नेवतन में व्यस्त थे, उन्हें तनिक भी अंदेशा नहीं था कि कोई वाहन इस तरह उन्हें कुचल देगा। परंतु अचानक एक ट्रक सड़क से उतरकर भीड़ में घुसता चला गया, जब तक लोग कुछ समझ पाते, चारों ओर चीख-पुकार मच गई। उधर, ट्रक भीड़ को रौंदते सड़क किनारे पीपल के पेड़ में जा टकराया। वहीं इस हादसे पर सीएम नीतीश कुमार ने भी दुख जाहिर किया है।

हजारों की संख्या में लोग मौके पर जुटे

हादसे को बाद हजारों की संख्या में लोग मौके पर जुट गए। आक्रोशित लोगों ने हाजीपुर-महनार मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। करीब एक दर्जन एंबुलेंस ने घटनास्थल से घायलों एवं हादसे में मारे गए लोगों को लेकर नजदीकी अस्पताल पहुंचाया। गंभीर रूप से घायल आधा दर्जन को प्राथमिक उपचार के बाद हाजीपुर सदर अस्पताल एवं तीन को पीएमसीएच रेफर किया गया है। मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।  

तय गति सीमा से अधिक रफ्तार, कोई साइनेज नहीं

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार हाजीपुर महनार मोहद्दीनगर मुख्य मार्ग एनएच 122 बी पर नयागंज 28 टोला के निकट हाजीपुर से महनार जा रहा ट्रक काफी तेज रफ्तार में था। यहां तय गति सीमा 20 से 30 किमी प्रति घंटा है परंतु ट्रक लगभग 60 किमी की रफ्तार में लग रहा था। वहीं सड़क पर गति सीमा का कोई साइनेज भी नहीं है। चालक भी नौसिखिया बताया जा रहा है।

मृतकों व घायलों में आठ से 12 साल के बच्चे शामिल

मौके पर ही मिट्ठू राय की आठ वर्षीय पुत्री वर्षा कुमारी, सुरेंद्र राय की 12 वर्षीय पुत्री सुरुचि कुमारी, मनोज राय की आठ वर्षीय पुत्री अनुष्का कुमारी, संजय राय की आठ वर्षीय पुत्री शिवानी एवं 10 वर्षीय पुत्री खुशी कुमारी, रविंद्र राय के 20 वर्षीय पुत्र चंदन कुमार, सुरेश राय की 10 वर्षीय पुत्री कोमल कुमारी एवं उमेश राय के 17 वर्षीय पुत्र सतीश कुमार की मौत हो गई।

ट्रक के केबिन में फंसे चालक को घेरकर खड़े लोग

बताया गया कि ट्रक संख्या बी आर 31 जी ए, 6818 है। उसका चालक गंभीर जख्मी हो गया। ट्रक के केबिन में ही वह फंस गया। इस बीच लोगों ने उसे घेर लिया। घटना की सूचना मिलते ही देसरी एवं महनार थाना के साथ सहदेई बुजुर्ग ओपी की पुलिस मौके पर पहुंची। वहीं महनार थाना की पुलिस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र महनार पहुंची। बताया गया कि महनार के एसडीओ सहित अन्य प्रशासनिक पदाधिकारी भी जानकारी मिलने के साथ ही तुरंत सक्रिय हुए और जरूरी कार्रवाई का निर्देश दिया। इसके अलावा एसडीओ के निर्देश पर घटनास्थल पर एंबुलेंस भी भेजी गई।

पशुपालकों के लोक देवता हैं भुइयां बाबा

भुइयां बाबा पशुपालकों के लोक देवता हैं। इनकी पूजा मुख्यत: पशुपालक व उनके परिवार के सदस्य करते हैं। पूजा का विधि-विधान ब्राह्मण के अलावा अन्य जाति के भगत (ओझा) पूरा करते हैं। भुइयां बाबा को दूध से स्नान कराया जाता है। प्रसाद के तौर पर केवल आटे की लिट्टी व बिना चीनी की खीर बांटी जाती है। पूजन के दौरान मांदर बजाया जाता है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *