50वें CJI के रूप में 9 नवंबर को शपथ लेंगे, जस्टिस चंद्रचूड़ राष्ट्रपति मुर्मू ने नियुक्ति पर लगाई मुहर

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ के नाम पर राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू ने अपनी मुहर लगा दी है। आगामी 9 नवंबर को जस्टिस चंद्रचू़ड़ सीजेआई पद की शपथ लेंगे। इससे पहले,भारत के मुख्य न्यायाधीश यूयू ललित ने उनके उत्तराधिकारी के रूप में न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड़ की सिफारिश की थी।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने 9 नवंबर से न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ को भारत के मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया है। न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ वर्तमान सीजेआई यूयू ललित की सेवानिवृत्ति के बाद 50 वें सीजेआई के रूप में कार्यभार संभालेंगे। इससे पहले,भारत के मुख्य न्यायाधीश यूयू ललित ने उनके उत्तराधिकारी के रूप में न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड़ की सिफारिश की थी। जस्टिस चंद्रचूड़ कई संविधान पीठों और ऐतिहासिक फैसलों का हिस्सा रहे हैं, जिसमें अयोध्या भूमि विवाद, निजता के अधिकार और व्यभिचार से संबंधित मामले शामिल हैं।

हार्वर्ड विश्वविद्यालय से कानून में दो उन्नत डिग्री प्राप्त करने के बाद जस्टिस चंद्रचूड़ 39 वर्ष की आयु में वरिष्ठ अधिवक्ता नामित होने वाले भारत के सबसे कम उम्र के वकीलों में से एक बन गए। तुरंत, 1998 में, उन्हें भारत का अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किया गया। एक वकील के रूप में अपने समय के दौरान, उन्होंने ओक्लाहोमा विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय कानून भी पढ़ाया और 1988 से 1997 तक बॉम्बे विश्वविद्यालय में तुलनात्मक संवैधानिक कानून में एक गेस्ट प्रोफेसर थे। जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ को 2000 में बॉम्बे हाई कोर्ट में जज नियुक्त किया गया था, जहां उन्होंने 13 साल तक सेवा की। न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ को 2013 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया था और तीन साल बाद उन्हें शीर्ष अदालत में पदोन्नत किया गया था।

न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ को 2013 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया था और तीन साल बाद उन्हें शीर्ष अदालत में पदोन्नत किया गया था। बता दें कि जस्टिस चंद्रचूड़ सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले सीजेआई वाईवी चंद्रचूड़ के बेटे हैं। 

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *